Hindi Stories

Men Who Make PARA Commandos

By Parul Sharma
  • Nov 29, 2016
  • 2379 views
पारा कमांडो। मरून टोपी। किसी भी जवान का सपना। जी जवान का। आम आदमी का नहीं। पारा कमांडो वही बन सकता है। जिसने पहले डिफेंस जॉइन कर लिया हो। काम। काम ऐसा की बस आदेश मिले। दुश्मन जमीन पर। पलक झपकी और खेल खत्म। धरती की सबसे खतरनाक फ़ोर्स में से एक। आग, पानी, हवा, ज़मीन सब बराबर। आदेश मिला और कूद दिए। अभी कुछ दिन पहले सर्जिकल स्ट्राइक हुआ था। याद है कि भूल गए। उड़ी आर्मी बेस पर हमले के बाद हुआ था। पिओके में आतंकियों के कैंप निपटा दिए गए थे। पारा कमांडो वो चीज़ हैं जो हवा में छलांग लगाता है और ज़मीन पर पैर टिकाता है। अपना बैग बांधा, सामान तैयार किया और कूद गए दुश्मन के इलाके में। काम खत्म फिर हवा में। लेकिन जमीं अब अपनी होती है। पारा कमांडो के लिए जो लोग लिए जाते हैं। वो पहले से ही डिफेंस के किसी एक विंग में काम कर रहा हो। वहीं से उन्हें कमांडो सर्विस के लिए टेस्ट के बाद चुना जाता है। ट्रेनिंग ऐसी की दिल दहल जाए। प्राइमरी ट्रेनिंग में ही कई लोग हाथ खड़े कर देते हैं। दरअसल इसमें कुछ गलत नहीं है। ये हर किसी के बस की बात नहीं होती। बेस्ट में भी जो बेस्ट बचते हैं। वो आगे की ट्रेनिंग के लिए ले लिए जाते हैं। और ओर यहां से शुरू होता है दुनिया के सबसे ख़तरनाक फ़ोर्स के बनने का सिलसिला। बहुत लोग पता कर रहे थे आखिर ये जवान तैयार कहां होते हैं। कैसे होते हैं? ये लीजिए वीडियो देखिए जवाब मिल जाएगा।
याद रहे आपने जिन्हें देखा वो भी पारा कमांडो हैं। अगली बार कहीं किसी मरून टोपी वाला जवान दिखे तो समझ लेना किसी स्पेशल जवान से मुलाकात हो रही है। बाजुओं पर बलिदान लिखा होगा।
related post