Education

नकल करनी छोड़ो और दूसरों के लिए प्रेरणास्त्रोत बनो|

By Kanak Kumari
  • Oct 13, 2016
  • 2882 views

एक गाँव में एक राजू नाम का एक व्यक्ति रहा करता था. राजू की सबसे खास बात ये थी की वह कोयल, चिड़िया, मोर, कुत्ता, बिल्ली , बांसुरी, ढोलक, बीन और अपने क्षेत्र के प्रत्येक प्रसिद्ध व्यक्ति की हुबहू आवाज निकल देता था. राजू की इस खुबी के कारण उसे हर जगह प्रसिद्धी मिली हुई थी. राजू जहाँ भी जाता लोग उसकी काफी तारीफ करते. राजू अपने क्षेत्र में इतना प्रसिद्ध था की लोग उसे अपने घर में होने वाले प्रत्येक समाहरो में मनोरंजन के लिए आमंत्रित करते थे. एक दिन उस क्षेत्र के राजा ने राजू की उसकी ख्याति सुनी तो राजा ने उसे दरबार में आने के लिए आमन्त्रण भेजा. राजू के पास जब ये सन्देश पहुंचा कि राजा ने उसे खुद अपने पास बुलाया है तो राजू खुशी के मारे झूम उठा और मन ही मन सोचने लगा कि राजा उसकी इस कला को देख कर बहुत खुश होगा.

 

अगले दिन राजू दरबार में पहुंच गया. राजा ने उसे अपनी कला दिखाने को कहा. राजू अब एक-एक करके तरह तरह के पुश-पक्षियों व प्रसिद्ध व्यक्तियों की आवाज की नकल बखुबी करने लगा. अपनी कला का प्रदर्शन करने के बाद राजू ने सोचा कि महाराज मुझे बहुत खुश हुए होंगे और मुझे शाबासी देंगे. लेकिन महाराज ने कहा “बस यही आता है तुम्हे? इसके अलावा और कुछ जो तुम्हारी खुद की अपनी कला हो| मुझे इसमे कोई आनंद नही आया.” यह सब सुन कर राजू बहुत निराश हुआ और कहने लगा “महाराज इसमें क्या कमी थी ये भी तो एक कला थी.”

 

तब महाराज ने राजू को समझाया “हाँ ये एक कला जरुर है लेकिन तुमने इसमें अपनी और से क्या किया? तुमने तो दुसरे लोगो की नकल की है.”

 

महाराज ने कहा “अच्छा राजू एक बात बताओ तुमने इस कला में ऐसा कौन सा काम किया है जिससे आने आने वाली पीढ़ी तुमसे प्रेरणा ले और दुसरे लोगो को कुछ सिखने को मिले. यह सब सुन कर राजू एक दम खामोश हो गया और कुछ देर बार राजू ने कहा “आप बिलकुल सही कह रहे हो महाराज. अब से मै खुद ऐसी कला सीखूंगा जिससे आने आने वाली पीढ़ी मुझे से प्रेरणा ले और दुसरे लोगो को कुछ सीखने को मिले.”

 

अच्छा दोस्तों अब आप एक बात बताइए अगर अभिताभ बच्चन भी शुरु से दुसरे अभिनेताओ की नकल करते तो क्या वो अभिताभ बच्चन बन पाते? और अगर achhiprerna.com दिल की बातें ना करके किसी दुसरे ब्लॉग की नकल करने से क्या यह ब्लॉग आज इस मुकाम पर पहुंच पाता? दोनों का जबाब है नही.

 

किसी से प्रेरणा लेना गलत बात नही है लेकिन हुबहू नकल करना गलत बात है. मैंने बहुत से ब्लॉग देखे है मै किसी का नाम नही लेना चाहता जिन्होंने hindimehelp.com ब्लॉग को देख कर उसी दे मिलता जुलता डोमेन लेकर उसकी तरह ही पोस्ट लिखनी कर दी. गज़बपोस्ट.कॉम को देख कर उसके जैसा डोमेन लेकर वैसी ही जानकारी देनी सुरु कर दी. ऐसा करके वो दुसरो की क्या सहायता करेगे.

 

दोस्तों जैसा की मैंने पोस्ट की शुरुआत में कहा हर एक मनुष्य प्रत्येक काम की शुरुआत किसी न किसी की नकल करके, किसी को देख कर व किसी का अनुसरण करके ही करता है. इसलिए हमें भी किसी का अनुसरण तो करना ही पड़ेगा लेकिन हमें अपने काम की शुरुआत किसी से प्रेरणा लेकर इस तरह से करनी होगी जिससे आने वाले लोगो के लिए हम एक प्रेरणास्त्रोत बन सके और दुसरे लोग हम से कुछ सीख सके.

 

related post